¤° ¤µ ¤ ¤µ ¤¾ ¤°...

Download  ¤° ¤µ ¤ ¤µ ¤¾ ¤°  ¤µ ¥† ¤° ¤¤  ¤µ ¤ ¤§ ¤  ¤µ ¤ ¤§ ¤¾ ¤¨,

Post on 09-Apr-2021

3 views

Category:

Documents

0 download

Embed Size (px)

TRANSCRIPT

  • Festivals Blogs By - Acharya V Shastri www.acharyavshastri.com

    1 https://www.acharyavshastri.com/

    रववार त वध वधान, रववार त पूजा वध, रववार त कथा, रववार क आरती, रववार त कैसे कर, रववार

    त के नयम, रववार त म ा खाएं,

    रववार त वध वधान, रववार त पूजा वध, रववार त कथा, रववार क आरती, रववार त कैसे कर,

    रववार त के नयम, रववार त म ा खाएं, रववार त उापन वध, सूयदेव क पूजा वध

    रववार त वध वधान साह के पहले वार यानी रववार (इतवार) के दन त रखने का वशेष मह होता है. जैसा क ‘रव’ नाम से ही वदत है इस दन सूय देवता के लए त रखा जाता है, उनक पूजा अराधना क जाती है और मंो का जप कया जाता है. ोतष शा के अनुसार यद कसी को कोई शारीरक पीड़ा (चम रोग, कु रोग, ने रोग आद) है तो उसे रववार का त जर करना चाहए. रववार का त करने व कथा सुनने से जीवन म सुख-समृ आती है, मान-सान म वृिद होती है, धन लाभ होता है, शुओ ंसे रा होती है. भगवान सूय नारायण को सभी ह का ामी माना जाता है इसलए रववार के दन उपवास रखने से सभी ह आपके अनुकूल हो जाते ह. अगर आप भी रववार त करना चाहते ह तो यहां जानए रववार त कब से शु कर, पूजा वध, रववार त कथा- आरती और रववार त उापन समेत त से जुड़ी सारी जानकारी. कैसे द सूय को अ पौराणक धामक ंथ म भगवान सूय के अ दान का वशेष मह बताया गया है. तदन

    https://www.acharyavshastri.com https://www.acharyavshastri.com/

  • Festivals Blogs By - Acharya V Shastri www.acharyavshastri.com

    2 https://www.acharyavshastri.com/

    ात: काल म तांबे के लोटे म जल लेकर और उसम लाल फूल, चावल डालकर स मन से सूय मं का जाप करते ए भगवान सूय को अ देना चाहए. इस अदान से भगवान सूय स होकर आयु, आरो, धन, धा, पु, म, तेज, यश, वा, वैभव और सौभा को दान करते ह. कतने रववार रख त? सूय देवता का त लगातार एक वष के सभी रववार, या फर 30 या 12 रववार तक करना चाहए. महलाएं मासक धम के दौरान त न रख और उसक गनती रववार त म न कर. उसके अगले रववार को त रख. त पूरा होने के बाद त का उापन कर द | सूय पूजा म कर इन नयम का पालन

    रववार अथात सूयदेव के त म शुता व नयम का बेहद ान रखना होता है. रववार के त के एक दन पहले से ही नयम का पालन करना होता है |

    त के एक दन पहले से ही तामसक भोजन (मांसाहारी भोजन) का सेवन न कर |

    रववार के एक दन पहले यानी शनवार रात म श करके सोएं ताक मुंह म एक भी अ का दाना न रहे |

    रववार त के दन सूयदय से पहले ही उठकर ान कर ल . नहाने के पानी काला तल और गंगा जल मलाना शुभ होता है |

    नहाने के बाद सूयनारायण को तीन बार अ देकर णाम कर. संा के समय फर से सूय को अ देकर णाम कर |

    आद दय ोत का नयमत पाठ कर |

    ा लाभ क कामना, ने रोग से बचने एवं अंधेपन से रा के लए ‘चाुषोपनष’ का तदन पाठ करना चाहए. नीचे वडयो देखे |

    रववार त पूजा वध

    https://www.acharyavshastri.com https://www.acharyavshastri.com/

  • Festivals Blogs By - Acharya V Shastri www.acharyavshastri.com

    3 https://www.acharyavshastri.com/

    रववार को सूयदय से पहले उठकर ान आद से नवृ होकर  लाल रगं के व पहन. सबसे पहले एक लोटे म जल, चंदन, चावल (अत) और लाल पु डालकर सूय देवता को अ द. इसके बाद घर के ईशान कोण (उर-पूव) म एक चौक पर भगवान सूय क मूत, च या सूय मं ापत कर. इस त को शु करने से पहले सूयदेव का रण कर संक ल क - हे सूय देवता म आने वाले 12 या 30 रववार तक त करने का संक लेती ं, अत: मेरी यह त पूजा ीकार कर. इसके बाद आप अपने त क शुआत कर |

    सबसे पहले जल, कुमकुम, चंदन पु से छटे देकर सूय को ान कराएं. इसके बाद सूय भगवान को कसी ऋतु फल का भोग लगाएं. सूय देव का रण करते ए ‘ॐ ां   स: सूयाय नम:’ इस मं का 12 या 5 अथवा 3 माला जप कर. रववार त कथा सुन और आरती कर |

    शाम म सूया के समय भी एक बार फर से लोटे म जल, चंदन, चावल (अत) और लाल पु डालकर सूय देव को अ द.

    रववार त म ा खाना चाहए रववार त म सूया के बाद ही भोजन कर और इसम गें क रोटी, दलया, दधू, दही और घी और चीनी आद का सेवन कर. दन म फलाहार का सेवन कर सकते ह. रववार त के दन नमक नह खाएं. रववार त क पौराणक कथा ाचीन काल म एक बुढ़या रहती थी। वह नयमत प से रववार का त करती। रववार के दन सूयदय से पहले उठकर बुढ़या ानाद से नवृ होकर आंगन को गोबर से लीपकर  करती, उसके बाद सूय भगवान क पूजा करते ए रववार त कथा सुनकर सूय भगवान का भोग लगाकर दन म एक समय भोजन करती। सूय भगवान क अनुकंपा से बुढ़या को कसी कार क च ता एवं क नह था। धीर-ेधीर ेउसका घर धन-धा से भर रहा था।

    उस बुढ़या को सुखी होत

View more